Generation of Computer in Hindi – कंप्यूटर की पीढ़ियाँ 1-7 हिन्दी में

0
280
Generation of Computer in Hindi zone- कंप्यूटर की पीढ़ियाँ
Generation of Computer in Hindi zone- कंप्यूटर की पीढ़ियाँ

दोस्तों Generation of Computer in Hindi के इस ब्लॉग में आज हम जानने वाले है की किस तरह से कंप्यूटर का विकास होता ही चला गया और उस ज़माने में जहाँ कंप्यूटर को रखने के लिए पुरे एक Room / कमरे की जरुरत हुआ करती थी. वही आज कंप्यूटर हमारे हाथों में है और यही नहीं आज भी वैज्ञानिक इसे और भी छोटा और तेज़ बनाने में लगे हुए है और वो दिन भी दूर नहीं दोस्तों जब कंप्यूटर हमारे हाथ की अंगुलियों में एक अंगूठी की तरह आ जायेगा तो चलिए दोस्तों जानते है Generation of computer in Hindi.

First Generation of Computer in Hindi (पहली पीढ़ी)

Feburary 1946 में पहली बार दुनिया ने एक अजूबा देखा जब कंप्यूटर जगत के दो महान वैज्ञानिक Presper Eckert और John Mauchly ने दुनिया का पहला इलेक्ट्रॉनिक ENIC (Electronic Numerical Integrator and Computer) कंप्यूटर दुनिया के सामने पेश किया. ये कंप्यूटर 1 सेकंड में पांच हज़ार से ज्यादा Addition (जोड़) की Calculations कर सकता था. कंप्यूटर जगत की पहली पीढ़ी यानि First Generation Of Computer सं1946 – 1959 तक कहलाता है. पहले दशक के कम्प्यूटरो में Memory और Software को सेव करने के लिए हज़ारो वैक्यूम ट्यूब (Vacuum Tube) का इस्तेमाल किया जाता था. ये ट्यूब बिलकुल लाइट के बल्ब की तरह होती थी. जिनमे से काफी गर्मी निकलती थी और इन्हे लगाने में भी काफी समय लगता था.

इनमे आमतौर पर Batch Operating System का उपयोग किया जाता था. जिसमे कंप्यूटर को चलाने में कई सरे लोगो की जरुरत पड़ती थी और हर व्यक्ति को एक साथ अलग अलग काम करना पड़ता था. साथ ही इस तरह के कंप्यूटर को प्रोग्राम करने के लिए Machine Programming Language का इस्तेमाल किया जाता था.

चलिए दोस्तों अब बात करते है First Generation Computer के Features यानि विशेषताओं की –

1st Generation Computer के फीचर्स

  • ये कंप्यूटर आकार में काफी बड़े हुआ करते थे और इन्हे रखने के लिए काफी जगह की जरूरत पड़ती थी. इसलिए इन्हे एक जगह से दूसरी जगह पर नहीं ले जाया जा सकता था.
  • इन कम्प्यूटरो में इलेक्ट्रॉनिक ब्लब का इस्तेमाल किया जाता था. जो काफी ज्यादा गर्मी पैदा करते थे. इसलिए इन्हे ठंडा रखने के लिए AC की जरुरत पड़ती थी.
  • इनमें हज़ारों तरह के सर्किट हुआ करते थे जोकि काफी बिजली की खपत करते थे. इसलिए इन्हे चलने के लिए बहुत ज्यादा Electricity की जरूरत हुआ करती थी.
  • इन्हे चलाने के लिए सॉफ्टवेयर की बजाय इंसानों को एक साथ काम करना पड़ता था. इसलिए इनका input और output काफी धीरे हुआ करता था.
  • ये कंप्यूटर काफी ज़्यादा महंगा हुआ करते थे जिन्हे हर कोई व्यक्ति नहीं ख़रीद सकता था इसलिए इन्हे सिर्फ बड़े संस्थान ही ख़रीद पाते थे.

First Generation of Computer के नाम –

  • ENIAC
  • EDVAC
  • UNIVAC
  • IBM-650
  • IBM-701
  • MARK-1
  • EDSAC
First Generation of computer in hindi zone

Second Generation Of Computer in Hindi (दूसरी पीढ़ी)

कंप्यूटर जनरेशन का दूसरा दौर 1959 में शुरू हुआ और 1965 तक चला इस जेनरेशन के कम्पुयटरो में Vacuum Tube की जगह पर Transistors का इस्तेमाल इसके सर्किट में किया गया था. जोकि कम बिजली पर चलते थे और वैक्यूम ट्यूब से काफी तेज काम किया करते थे.
इनमें Memory सेव करने के लिए Magnetic Core और Magnetic Disc का इस्तेमाल किया जाता था.

इन कम्प्यूटरो को प्रोग्राम करने के लिए High-Level Programming लैंग्वेज और Assembly Language का इस्तेमाल किया जाता था. इनमें Batch और दोनों ही तरह के Operating System का इस्तेमाल किया जाता था.

2nd Generation of Computer के फीचर्स –

  • इनमे ट्रांजिस्टर का इस्तेमाल किया जाता था
  • ये पहली दशक के कंप्यूटर से काफी ज्यादा तेजी से काम करते थे
  • इसमें काम गर्मी पैदा होती थी इसलिए ठंडा रखने के लिए इन्हे AC की जरुरत हुआ करती थी
  • काफी महंगे हुआ करते थे
  • ये मशीन और असेंबली लैंग्वेज को सपोर्ट करते थे
  • इनका size पहली जनरेशन के कंप्यूटर से काफी छोटा हुआ करता था
  • ये पहली जनरेशन के कम्पूटरो से काम बिजली पर चलते थे

दूसरी Generation के Computer

  • IBM 1620
  • IBM 7094
  • CDC 1604
  • CDC 3600
  • UNIVAC 1108
second Generation of computer in hindi zone (1)

Third Generation of Computers (तीसरी पीढ़ी)

कम्यूटर की तीसरी जनरेशन का दौर 1965 से 1971 तक चला इन कम्प्यूटरो में transistors की जगह पर Integrated Circuits का इस्तेमाल किया गया. जिन्हे आमतौर पर IC भी कहा जाता है एक Integrated Circuits कई सारे ट्रांजिस्टर होते है. साथ ही साथ इसमें capacitor का इस्तेमाल भी किया गया था.

चुकी इसमें IC का इस्तेमाल किया गया इसलिए इनका size पहली और दूसरी जनरेशन के कंप्यूटर से बेहद काम हो गया. इनमे रिमोट प्रोसेसिंग और Multi-Programming ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल किया गया. इसमें प्रोग्रामिंग के लिए हाई लेवल प्रोग्रामिंग लैंग्वेज जैसे COBOL PASCAL BASIC ALGOL – 68 का इस्तेमाल किया गया.

3rd Generation of Computer के फीचर्स –

  • इसमें IC का इस्तेमाल किया गया जोकि काफी छोटे होते थे.
  • पहली 2 जनरेशन के मुकाबले ये कंप्यूटर काफी ज्यादा तेज़ होते थे.
  • ये कंप्यूटर बहुत ज्यादा छोटे होते थे जिन्हे एक छोटे टेबल पर रखा जा सकता था.
  • इन्हे मेंटेनेंस करने के लिए कम समय लगता था.
  • ये महंगे हुआ करते थे.

तीसरी Generation के Computer

  • IBM-360 series
  • Honeywell-6000 series
  • PDP (Personal Data Processor)
  • IBM-370/168
  • TDC-316
Third Generation of computer in hindi zone (2)

Fourth Generation of Computers

Computer Generation का चौथा दौर 1971-1980 तक चला इस दशक के कम्पूटरो में VLSI (Very Large Scale Integrated Circuits) का इस्तेमाल किया गया. एक VLSI चिप में में हज़ारो Transistor और Circuit बड़ी आसानी से आ जाते थे इसलिए इन कंप्यूटर को चौथे generation of computer में Microcomputer का दर्जा दिया गया.

इस जनरेशन के कंप्यूटर दूसरी जनरेशन से पावरफुल और छोटे के साथ साथ सस्ते भी थे जिन्हे आसानी से ख़रीदा सकता था. इसलिए चौथी जनरेशन के साथ ही पर्सनल कंप्यूटर खरीदने का दौर शुरू हो चूका था.

इन कम्पूटरो में रियल टाइम डिस्ट्रिब्यूटेड सिस्टम ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल किया गया और ये कंप्यूटर High Level Language जैसे C C ++ आदि का सपोर्ट करती थी.

Fourth Generation of Computer के फीचर्स –

  • इसमें VLSI चिप का इस्तेमाल किया गया.
  • ये कंप्यूटर काफी सस्ते हुआ करते थे.
  • साइज में ये दूसरी जनरेशन के कंप्यूटर से बेहद छोटे थे.
  • इन्हे ठंडा रखने के लिए AC की जरुरत नहीं होती थी.
  • इन कंप्यूटर के दौर में ही Internet की शुरआत हुई.
  • इस जनरेशन में कंप्यूटर आसानी से उपलभ्ध थे.

चौथी Generation के Computers:

  • DEC 10
  • STAR 1000
  • PDP 11
  • CRAY-1(Super Computer)
  • CRAY-X-MP(Super Computer)
Fourth Generation of computer in hindi zone (3)

Fifth Generation of Computer

पांचवी Generation of Computer का दौर 1980 – 1990 तक रहा इस जनरेशन के कंप्यूटर में ULSI (Ultra Large Scale Integration) टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया गया जिसमे एक माइक्रोप्रोसेसर चिप में 1 लाख इलेक्ट्रॉनिक उपकरण आसानी से आ जाते है. इस जनरेशन के कंप्यूटर parallel hardware और Artificial Intelligence सॉफ्टवेयर पर आधारित थे. इन कम्प्यूटरो में High Level Object Oriented प्रोग्रामिंग का इस्तेमाल आसानी से किया जा सकता था साथ ही साथ ये कंप्यूटर UNIX, LINUX, Windows जैसे ऑपरेटिंग सिस्टम पर आसानी से चलते थे.

5th Generation of Computer फीचर्स –

  • इसमें ULSI टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया गया.
  • इन कंप्यूटर कोई भी व्यक्ति आसानी से चला सकता था.
  • इसमें कंडक्टर का इस्तेमाल किया गया था.
  • ये कंप्यूटर Artificial Intelligence को सपोर्ट करते थे.
  • नेटवर्क का आसानी से इस्तेमाल किया जा सकता था.
  • गेम खलने और डेवेलोप करने में कारगर थे.
  • रोबोटिक्स को आसानी से प्रोग्राम किया जा सकता था.

पांचवी Generation के Computers:

  • Desktop
  • Laptop
  • NoteBook
  • UltraBook
  • Chromebook
Fifth Generation of computer in hindi zone (4)

Sixth Generation of Computer

छठी जनरेशन की शुरुआत 1990 में हुई थी ये पीढ़ी Computer Intelligence के नाम से भी जानी जाती है. इस पीढ़ी के कंप्यूटर Artificial Intelligence (AI) पर आधारित है. इन कम्प्यूटरो में Super Conductor का इस्तेमाल किया गया है जिससे बिजली की बर्बादी नहीं होती साथ ही इनकी प्रोसेसिंग और मेमोरी दूसरी जनरेशन के कम्प्यूटरो से काफी तेज है. ये कंप्यूटर इस से पहले सभी पीढ़ियों के कम्प्यूटरो से आकार में काफी छोटे है.

छठी जनरेशन के कम्प्यूटरो में Intel Celeron और Intel Pentium नाम के पावरफुल प्रोसेसर का इस्तेमाल किया गया है. जोकि अलग अलग Core में आते यही है यह Processor पुरानी कंप्यूटर के 2-3 CPU एक साथ चलाने की क्षमता रखते है.

इस जनरेशन के कम्प्यूटरो में Voice Recognize का फीचर है. जोकि पूरी तरह आर्टिफिशल इंटेलगिएनसी पर आधारित है. जिसमे सिर्फ बोलने भर से कंप्यूटर को काम में लिया जा सकता है.

Voice Recognition फीचर आने के बाद से ही विकलांग छात्रों की जिंदगी में काफी बदलाव आया है. कंप्यूटर और किसी phyical डिवाइस को बिना हाथ लगाए सिर्फ बोल कर उसने कार्य किया जा सकता है.

आज के दौर में लगभग हर भाषा का प्रयोग कंप्यूटर प्रोसेसिंग के कार्यो में किया जा सकता है.

6th Generation of Computer फीचर्स –

  • छठी Generation of Computer में Multiple प्रोफेसर का इस्तेमाल किया गया है जोकि कंप्यूटर को तेज काम करने में कारगर है.
  • इसमें Nano Technology का इस्तेमाल किया गया है जिस है जिस से कंप्यूटर को और भी छोटा बनाया जा सके
  • ये lightweight यानि काम वजन के साथ साथ तेज़ भी है.
Sixth Generation of computer in hindi zone (5)

7th Generation of Computer फीचर्स –

सातवीं जनरेशन के कम्पूटरो में प्रोसेसर पर ख़ास ध्यान दिया गया है आमतौर पर पूरा साल में 3-4 प्रोसेसर मार्किट में उपलब्ध कराये जाते है. सातवीं जनरेशन के कंप्यूटर Intel Core Processor 7 (i7) पर आधारित है. जोकि काफी शानदार syle design के साथ आते है और इनका आकर काफी Slim और छोटा होता है और इन्हे अलग अलग बजट के हिसाब से ख़रीदा जा सकता है.

  • ये कंप्यूटर 1080*1920 screen ratio के साथ आते है जोकि 4K वीडियो को सपोर्ट करता है.
  • इसमें हाई प्रोसेसरGaming बड़े आराम से smoothly की जा सकती है.
  • ये कम्प्यूटर Hyper Threading Technology से लेस है जिसपर एक साथ बहुत सरे काम (Multitask) किये जा सकते हैइसमें Quick sync video technology और Advanced Encryption Technology से कंप्यूटर वीडियो देखने और कंप्यूटर सिक्योरिटी को बहुत मजबूत बनाया गया है.
  • आर्टिफीसियल इंटेलिग्नेंसी की मदद से इसमें सिर्फ बोलकर भी काम किया जा सकता है.
Seven Generation of computer in hindi zone (5)

तो दोस्तों आज हमने Generation of Computer के बारे में विस्तार से जाना. दोस्तों उम्मीद है मैने आपको Generation of Computers in Hindi – कंप्यूटर की पीढ़ियाँ पर अच्छे से explain किया होगा. इसके अलावा, दोस्तों अगर आप चाहते है की में आपको कोई नई जानकारी दूँ तो मुझे निचे कमेंट सेक्शन में बताये तब तक के लिए धन्यवाद दोस्तों जय हिन्द / जय भारत !!

ये भी देखे

Computer Network क्या है इसके प्रकार

Java क्या है और कैसे इसे सीखे?

Computer History

What is Generation of Computer in Hindi?

Generation of Computer कंप्यूटर के विकास की अलग अलग पीढ़िया है. अब तक कंप्यूटर की 7 पीढ़िया है जैसे First Generation, Second Generation, Third Generation, Fourth Generation, Fifth Generation, Sixth Generation और Seventh Generation.

First Generation of Computer in Hindi?

कंप्यूटर जगत की पहली पीढ़ी यानि First Generation Of Computer सं1946 – सं1959 तक कहलाता है.

Third Generation of Computer in Hindi?

कम्यूटर की तीसरी जनरेशन का दौर 1965 से 1971 तक चला इन कम्प्यूटरो में transistors की जगह पर Integrated Circuits का इस्तेमाल किया गया. जिन्हे आमतौर पर IC भी कहा जाता है.

Fifth Generation of Computer in Hindi?

पांचवी Generation of Computer का दौर 1980 – 1990 तक रहा इस जनरेशन के कंप्यूटर में ULSI (Ultra Large Scale Integration) टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया गया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here