Computer Memory क्या है

0
176
Computer Memory in Hindi
Computer Memory in Hindi

दोस्तों पिछली बार हमे Secondary Memory के बारे में जाना था जोकि एक Computer Memory है ठीक उसी तरह आज हम कंप्यूटर मैमोरी के बारे में पूरी तरह से डिटेल में जानेंगे जैसे इसके Types, Characteristics, Examples. तो चलिए जानते है कंप्यूटर की मैमोरी के बारे में हिंदी में.

कंप्यूटर मैमोरी क्या है – What is Computer Memory in Hindi

Computer Memory एक electronic device है जो कंप्यूटर में Data / Information व् programs आदि को Temporary या Permanent समय तक Store करने के काम आती है. कंप्यूटर information को Binary Code जैसे 0 और 1 की मदद से ही समझता और स्टोर करता है. Computer Memory को 3 मुख्य भागो में बांटा गया है.

  1. Cache Memory
  2. Main Memory
  3. Auxiliary Memory

मैन मैमोरी डाटा को सिर्फ प्रोग्राम Run होने तक ही store करके रखती है. जबकि सेकेंडरी मैमोरी लम्बे समय तक किसी भी डाटा या प्रोग्राम को स्टोर करके रखती है.

Characteristics of Computer क्या है in Hindi

Cache Memory

Cache Memory कैश मैमोरी एक चिप बेस्ड कंप्यूटर मैमोरी है जो कंप्यूटर में डाटा को टेम्पोररालीय स्टोर करती है ताकि प्रोसेसर उसे आसानी से रेटरीवे कर सके इसे CPU मैमोरी भी कहा जाता है क्युकी ये CPU से डायरेक्टली कनेक्टेड होती है इसीलिए ये प्रोसेसर से ज्यादा आसानी से डाटा रेटरीवे करती है.

कैश मैमोरी 3 तरह की होती है L1, L2 और L3 जिन्हे हम डिटेल में कभी और समझेंगे. चलिए Cache Memory को Example से समझते है.

मान लीजिये आप कंप्यूटर में किसी Folder को बार बार खोलते है. तो कंप्यूटर को ये समझ आ जायगा की आपको उस folder की जरूरत ज्यादा पड है रही तो कंप्यूटर उस folder को अपने Cache Memory में store कर लेगा उसे बाद आप उसे खोलेंगे तो वो फोल्डर खुलने में पहले से बहुत कम समय लगाएगा. इसलिए कैश मैमोरी को काफी फ़ास्ट Memory कहा जाता है.

Cache Memory की विशेषताएं (Characteristics)

  • कैश मैमोरी प्राइमरी और सेकेंडरी मैमोरी से बहुत fast होती है.
  • ये डाटा को temporary यानि कुछ समय तक ही स्टोर कर रखती है.
  • इसमें डाटा को स्टोर करने की capacity काफी कम होती है.
  • ये मैमोरी काफी महंगी होती है.

Parts of Computer in Hindi

Main Memory / Primary Memory

प्राइमरी मैमोरी केवल उस data या information को Store करके रखती है जिसपर कंप्यूटर उस समय काम कर रहा होते है. प्राइमरी मैमोरी की Capacity सीमित होती है. इसमें Store हुआ data बिजली बंद होने पर automatic delete हो जाता है

प्राइमरी मैमोरी को दो भागो में बांटा गया है RAM (Read Only Memory) और ROM (Random Access Memory).

Primary Memory की विशेषताएं (Characteristics)

  • ये मैमोरी सेमीकंडक्टर पर बानी होती है.
  • इसे मैन मैमोरी के नाम से भी जाना जाता है.
  • इसे कंप्यूटर की वर्किंग मैमोरी भी कहा जाता है.
  • ये मैमोरी सेकेंडरी मैमोरी से काफी तेज़ होती है.
  • बिना Main Memory के कंप्यूटर नहीं चल सकता है.

Generation of Computer

Auxiliary Memory / Secondary Memory

Secondary Memory प्राइमरी मैमोरी से काफी slow होती है. क्युकी CPU (Central Processing Unit) इसे directly access नहीं कर सकता. इस मैमोरी का data पहले प्राइमरी मैमोरी में जाता है फिर कही जाके उसे Processor यानि CPU उसे Access करता है. इसे Non-Volatile Memory या External Memory भी कहा जाता है ये Data या Information को permanently और लम्बे समय तक स्टोर करके रखती है सेकेंडरी मैमोरी के example है CD, DVD, Pen-drive, Hard-disk आदि.

Secondary Memory की विशेषताएं (Characteristics)

  • सेकेंडरी मैमोरी को Non-Volatile, Magnetic, Optical और Virtual Memory भी कहा जाता है.
  • बिजली बंद होने पर भी इसमें डाटा स्टोर रहता है.
  • कंप्यूटर बिना Secondary Memory के भी चल सकता है.
  • ये मैमोरी प्राइमरी मैमोरी से काफी Slow होती है.

कंप्यूटर का पूरा Full Form क्या है

Conclusion

तो दोस्तों हम आशा करते है आपको आज की ये जानकारी Computer Memory in Hindi पूरी तरह से और आसानी से समझ आयी होगी इसके अलावा अगर आपको कोई doubt है तो आप मुझे नीचे comment में पूछ सकते है इसके अलावा दोस्तों आप हमे हमारे सोशल मीडिया Facebook, Twitter, Instagram पर भी Follow कर सकते है साथ ही आप हमे अपने सुझाव भी शेयर कर सकते है दोस्तों इसी के साथ फिर मिलेंगे एक नयी जानकारी के साथ तब तक के लिए धन्यवाद, जय हिंदी जय भारत !!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here